सुकन्या समृद्धि योजना: बेटी 21 साल के होने पर बन सकती है करोड़पति, जानिए कैसे करें निवेश

सुकन्या समृद्धि योजना: बेटी 21 साल के होने पर बन सकती है करोड़पति, जानिए कैसे करें निवेश

आज भी जब हमारे देश में किसी गरीब या फिर मध्यमवर्गीय परिवार में बेटी का जन्म होता है, तो उसके जन्म से ही उसके पूरे उज्जवल भविष्य की चिंता बेटी के मां बाप को होने लगती है। बेटी के अभिभावकों को उसके उज्जवल भविष्य की चिंता होनी ही चाहिए, क्योंकि आज महंगाई का स्तर आसमान छू रहा है। ऐसे में यदि आप अपनी बेटी का विवाह एक संपन्न परिवार में करना चाहते हैं, तो आपको उसके बचपन से ही उसकी बेहतर शिक्षा के बारे में भी सोचना पड़ जाता है। आज के समय में लगभग हर एक व्यक्ति चाहता है, कि उसकी बहू बहुत ही शिक्षित हो। एक शिक्षित बेटी एक संपन्न परिवार में तो विवाहित होती ही है, साथ में वह अपने भविष्य के लिए कुछ ना कुछ अपने शिक्षा के दम पर कोई कार्य भी कर सकने में सक्षम होती है। हमारे देश की सरकार ने सभी गरीब एवं मध्यम वर्गीय परिवारों की इन्हीं समस्याओं को समझते हुए सुकन्या समृद्धि योजना का शुरुआत किया हुआ है।

हमारे देश की सरकार भी चाहती है, कि हमारे देश की बेटियां बहुत पढ़ी लिखी हो और वह अपना नाम पूरे विश्व भर में स्थापित कर सकें। सरकार द्वारा शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के उज्जवल भविष्य के लिए बहुत ही लाभकारी है। इस योजना का लाभ उठाकर अब कोई भी मध्यमवर्गीय फिर गरीब परिवार अपने बेटियों के उज्जवल भविष्य को लेकर चिंतित नहीं होगा। हम इस लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को सरकार की इस महत्वाकांक्षी और लाभकारी योजना के बारे में संपूर्ण रूप से जानकारी प्रदान करने वाले हैं। कृपया हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें और अपने बेटियों के भविष्य को आसानी से उज्जवल बनाएं।

Sukanya-Samridhi-Yojana

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है ?

भारत सरकार द्वारा शुरू की गई है, ऐसी छोटी निवेश की स्कीम जिसके अंतर्गत कोई भी लड़की के माता-पिता इसमें बड़ी ही आसानी से निवेश कर सकता है। इस योजना को स्वयं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान के अंतर्गत शुरू किया है। इसमें जब बेटी की उम्र विवाह योग्य 21 वर्ष की हो जाती है, तब बेटी के माता-पिता या फिर स्वयं बेटी अपने सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में से अपने विवाह हेतु पैसे निकाल सकती है। जो भी माता-पिता अपने बेटी कम उम्र में इस योजना हेतु खाता खुलवाते हैं, तो उनको सिर्फ बेटी की 15 वर्ष होने तक निवेश करते रहना होगा। इसके बाद से स्वयं सरकार बेटी के 21 वर्ष पूरे होने तक इसके अंतर्गत बेटी के खाते में निर्धारित ब्याज दर प्रदान करती रहेगी।

सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर क्या है ?

इस योजना में निवेशकों को भारत सरकार द्वारा अभी निर्धारित 8.5 की ब्याज दर की फ़ीसदी से इसके अंतर्गत खाताधारकों को लाभ प्रदान किया जा रहा है। अभी फिलहाल में जो भी परिवार अपनी बेटी का खाता वर्ष 2020 के अप्रैल से लेकर जून के बीच में इसके अंतर्गत खुल जाता है, तो उसे सरकार द्वारा 8.5 के ब्याज दर के हिसाब से लाभ प्रदान किया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि में निवेश कर ऐसे बन सकते हैं करोड़पति

बेटियों के माता-पिता अपनी बेटी के छोटे उम्र में ही सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता खुलवाते हैं, तो जब आपकी बेटी की उम्र 21 वर्ष की हो जाएगी तब आपको इस योजना के अंतर्गत मिलने वाला लाभ करोड़ों में प्राप्त हो सकता है। जैसे कि यदि आपके यहां बेटी का जन्म हुआ है, तो आप उसकी 1 वर्ष की उम्र में ही इसके अंतर्गत सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवा देते हैं, तो आप इस योजना में प्रति माह 12500 रूपए के अनुसार यदि योजना में निवेश करते हैं, तो आपके कुल 1 वर्ष की निवेश राशि 1.5 लाख रुपए होगी। इस हिसाब से जब आपकी बेटी की उम्र 21 वर्ष की हो जाएगी तब आप उस वक्त तक योजना के मैच्योरिटी के पूरा हो जाने के बाद 63.7 लाख रुपए लाभार्थी को प्राप्त होंगे। बेटी के माता पिता दोनों साथ मिलकर इसी निवेश राशि को योजना के अंतर्गत जमा करते हैं, तो जब बेटी की उम्र 21 वर्ष की हो जाती है, तब योजना के मेच्योरिटी पूरे हो जाने के बाद लाभार्थी बालिका के खाते में कुल 1.27 करोड़ों रुपए योजना के अंतर्गत प्राप्त होते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के डिपॉजिट करने की समय सीमा क्या हो सकती है ?

योजना में निवेश करके एक गरीब माता-पिता भी बेटियों की उज्जवल भविष्य को बना सके इसके लिए सरकार ने इसकी न्यूनतम डिपॉजिट राशि को प्रति माह 250 रूपए रखा है और यदि हम अधिकतम डिपाजिट राशि की बात करें, तो इसमें प्रति माह आप 1.5 लाख रुपए की राशि को जमा करवा सकते हैं। इसके यदि कोई अभिभावक अपने बेटी के खाते में 1.5 लाख रुपए प्रति माह निवेश करता है, तो उसे सरकार द्वारा आयकर विभाग के माध्यम से छूट प्रदान की जाती है, मतलब आपको इसमें कोई भी कर चुकाना नहीं होगा।

हमारे देश की सरकार चाहती है कि अब लड़कों के साथ लड़कियां भी कंधे से कंधा मिलाकर देश एवं परिवार के विकास में अपना संपूर्ण सहयोग प्रदान करें। आज के समय में लड़कियां भी लड़कों के मुकाबले सभी कार्य करने में सक्षम है। इस योजना के माध्यम से सभी छोटा एवं मध्यम वर्गीय परिवार अपने बेटियों के उज्जवल भविष्य हेतु एवं उनके विवाह हेतु सरकार के द्वारा शुरू की गई इस योजना में निवेश करके चिंता मुक्त हो सकता है। “अगर पड़ेगी बेटियां तभी, तो आगे बढ़ेगी बेटियां” ।

Other links 

About Editor