शिशु मुद्रा लोन लेने वालों को 1500 करोड़ की मदद, जानें क्या है योजना, कौन ले सकता है लाभ

शिशु मुद्रा लोन लेने वालों को 1500 करोड़ की मदद, जानें क्या है योजना, कौन ले सकता है लाभ (2% ब्याज की छूट) (Shishu Loan under Mudra Loan in hindi)

 कोरोना महा संकट की वजह से हुई तालाबंदी के बाद छोटे छोटे कारोबारी बिल्कुल निराश हो चुके हैं। इस निराशाजनक स्थिति के बीच सरकार ने ऐसे कारोबारियों को प्रोत्साहन देने के लिए शिशु मुद्रा लोन में बड़े बदलाव किये गए है। इस योजना के तहत उन कारोबारियों को शिशु मुद्रा लोन की प्राप्ति पर 2 फ़ीसदी छूट देने का ऐलान सरकार द्वारा किया गया है। वे कारोबारी जो अपने व्यवसाय में ताला बनने की वजह से बहुत ज्यादा नुकसान भुगत चुके हैं वह आसानी से इस योजना के तहत 50000 रुपये तक का कर्ज सरकार से ले सकते हैं। इस योजना के तहत तीन करोड़ लोगों को 1 साल तक ब्याज की दर में 2% का डिस्काउंट प्रदान किया जाएगा। व्यापारियों द्वारा लिए गए लोन पर 1500 करोड़ रुपए के ब्याज का सरकार की तरफ से भुगतान किया जाएगा।

shishu loan hindi mudra yojana

मुद्रा लोन योजना का उद्देश्य

केंद्र सरकार द्वारा यह मुद्रा लोन 8 अप्रैल साल 2015 में ही प्रारंभ कर दिया गया था। जिसका मुख्य उद्देश्य उन व्यापारियों को लोन की सुविधा उपलब्ध कराना था जो आमतौर पर छोटे मोटे व्यवसाय आरंभ करने की इच्छा रखते हैं। बैंकों के जरिए यदि वे व्यापारी लोन के लिए अप्लाई करते थे तो उन्हें बैंक में गारंटी के तौर पर कुछ ना कुछ जमा कराना पड़ता था। और वे इस प्रक्रिया से कतराते थे इसलिए सरकार ने जब मुद्रा योजना प्रारंभ की तब वह आसानी से बिना किसी गारंटी प्रक्रिया के लोन प्राप्त करने में सक्षम हो पाए। इस योजना के तहत मुद्रा लोन को तीन भागों में विभाजित किया गया जिसके अनुसार कोई भी व्यापारी 50000 रुपये से लेकर 10 लाख तक का लोन प्राप्त कर सकता है।

  • शिशु लोन– इस योजना के अंतर्गत शिशु लोन  के जरिए यदि कोई शख्स अपनी दुकान खोलना चाहता है तो उसे 50000 रुपये तक की राशि का लोन आसानी से सरकार की तरफ से प्राप्त हो सकता है।
  • किशोर लोन:- किशोर लोन बड़े व्यवसाय करने वाले लोगों के लिए लागू किए गए हैं जिसके अंतर्गत व्यापारी 50000 रुपये से लेकर 500000 लाख तक के लोन की राशि प्राप्त कर सकते हैं।
  • तरुण लोन:- वृहत पैमाने पर व्यापार करने के लिए और आर्थिक सहायता प्राप्त करने के लिए  तरुण लोन  भी व्यापारियों को 5 लाख से लेकर 10 लाख तक कीलोन राशि प्राप्त करा सकता है

वर्तमान समय में किए गए बदलाव

बीते वीरवार के दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस योजना में किए गए बदलावों का विवरण दिया। मोदी सरकार द्वारा जो पिछले मंगलवार के दिन देश को संबोधित करते हुए 20 लाख करोड रुपए का आर्थिक पैकेज जारी किया गया था उस राशि को ही विभिन्न भागों में निर्मला सीतारमण द्वारा बांटा गया। पहले दिन उन्होंने एमएसएमई सेक्टर के लिए पैकेज की घोषणा की। और दूसरे दिन उन्होंने आर्थिक पैकेज का दूसरा चरण प्रस्तुत किया जिसमें उन्होंने प्रवासी मजदूर, स्ट्रीट वेंडर्स, छोटे किसान और शहरी गरीबों के लिए नई घोषणाएं सबके सामने की। उन्होंने मुद्रा स्कीम लोन के अंदर किए गए बदलावों के बारे में भी बताया जिसमें उन्होंने 2% छूट जो अगले 1 साल तक लोन धारक को मिलेगी। साथ ही मुद्रा लोन योजना के लिए उन्होंने 1500 करोड़ रुपए की राशि जारी कर दी। जिसमें से अब तक 1.62 करोड रुपए का लोन गरीब लोगों में बांटा भी जा चुका है।

कौन प्राप्त कर सकता है यह लोन

इस योजना के तहत सरकार द्वारा छोटे स्तर पर व्यापार करने वाले व्यापारियों को ही लोन प्रदान किया जाएगा। किसी भी बड़े कारोबारी को उनके व्यवसाय के लिए यह लाभ प्रदान नहीं किए जाएंगे।

कहां से प्राप्त होगा यह लोन?

इस योजना के अंतर्गत लोन प्रदान करने के लिए कुछ बैंक निर्धारित किए गए हैं जिनमें ग्रामीण बैंक, सरकारी बैंक, सहकारी बैंक और प्राइवेट बैंक के जरिए कोई भी व्यक्ति लोन प्राप्त कर सकते हैं। जब आप इस लोन के लिए आवेदन करने के लिए अपने नजदीकी बैंक ब्रांच में जाते हैं तब वहां पर आपसे आपके व्यापार से जुड़ी जानकारी, आधार कार्ड नंबर, पैन कार्ड नंबर और कुछ आवश्यक दस्तावेज मांगे जाते हैं।

जब ब्रांच मैनेजर को आपके व्यवसाय की पूरी जानकारी प्राप्त हो जाती है तब वह आपके व्यवसाय के आधार पर पीएमएमवाई लोन मंजूरी देता है। आप किस प्रकार का काम आरंभ करने के लिए इस लोन की प्राप्ति कर सकते हैं इसकी अधिक जानकारी के लिए आप सरकार द्वारा जारी की गई  वेबसाइट पर जाकर सभी जानकारी विस्तार पूर्वक प्राप्त कर सकते हैं।

यदि साल 2019 से लेकर 20 तक की रिपोर्ट का आंकलन किया जाए तो आंकड़ों के हिसाब से इस मुद्रा योजना के तहत 58,36,5823 अब तक 3,23,573 करोड रुपए की राशि के लिए आवेदनों को स्वीकृति दे दी गई है और उनमें से 316099 करोड़ लोगों को लोन की राशि बीवी जा चुकी है। सरकार द्वारा चलाई जाने वाली इस योजना के तहत छोटे कारोबारियों को अपने कारोबार बढ़ाने और चलाने के लिए महत्वपूर्ण योगदान प्राप्त होता है और इस तालाबंदी में यह योजना उनके लिए बेहद लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं।

Other links –

About Editor