सुकन्या समृद्धि योजना| Sukanya Yojana (Yojna) in Hindi

 

जानिए क्या है सुकन्या समृद्धि योजना  | Sukanya Yojana (Yojna) in hindi

अक्सर आर्थिक हालात ठीक नहीं होने के कारण कई गरीब परिवारों की बेटियां पढ़ाई से  वंचित रह जाती हैं. इसके अलावा बेटियों के मां-बाप को उनकी शादी में होने वाले खर्चे की भी चिंता लगी रहती है. इन सभी समस्याओं का हल निकालते हुए प्रधानमंत्री द्वारा देश में सुकन्या समृद्धि योजना की शुरूआत की गई है. इस योजना का उद्देश्य ऐसी लड़कियों की आर्थिक मदद करना है, जिनके परिवार वालों की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है कि वो अपनी बेटी की पढ़ाई और उसकी शादी का खर्चा उठा सकें. आखिर क्या है ये योजना, कैसे आप इस योजना का फायदा उठा सकते हैं और इस योजना से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी  आज हम आपको देने जा रहे हैं.

सुकन्या समृद्धि योजना 

सुकन्या समृद्धि योजना  के फायदे (sukanya samriddhi yojana benefits in hindi)

अगर कोई व्यक्ति अपनी बेटी का खाता सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खुलवाता है, तो सरकार द्वारा उस खाते में जमा पैसों पर अच्छा खासा ब्याज दिया जाएगा. इस योजना के अनुसार 10 साल या उससे कम उम्र की लड़कियों के माता-पिता इस योजना का फायदा उठा सकते हैं. ये खाता लड़की के नाम पर खोला जाएगा. इस योजना के अंतर्गत खोले गए अकांउट में हर महीने कम से कम 1000 रुपए डालने होंगे. वहीं कोई भी अभिभावक ज्यादा से ज्यादा इस खाते में एक साल में 1.50 लाख रुपए तक जमा करवा सकता है. वहीं इस खाते में ये राशि आपको 14 वर्ष तक जमा करवानी होगी.

सुकन्या समृद्धि योजना में हुए बदलाव (sukanya samriddhi yojana amendment 2016 in hindi)

सरकार द्वारा इस योजना को 2014 में शुरू किया गया था और उस समय बनाए गए कुछ नियमों में सरकार ने अब बदलाव किया हैं. इन बदलावों के जरिए इस योजना में जो कमी थी उसे दूर कर दिया गया है. वहीं इस योजना से जुडी कुछ मुख्य बातों को नीचे बताया गया है.-

खाते की परिपक्वता (Maturity of the account)

पुराने नियमों के मुताबिक परिपक्वता (post maturity) के बाद अगर कोई इस खाते को बंद नहीं करवाता था, तो उसे ब्याज देने का नियम था. लेकिन नए नियमों के अनुसार खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष पूरे हो जाने के बाद, अगर इस खाते को बंद नहीं करवाया जाता है, तो इस योजना के नियम अनुसार अब से ब्याज राशि नहीं दी जा सकेगी.

निकाल सकते हैं पूरा धन (amount Withdrawal facility)

इतना ही नहीं अगर आपकी बेटी 18 साल की हो जाती है तो वो खाते से अब पूरा धन निकाल सकती है. पहले 18 साल की होने पर लड़की केवल 50% ही धन इस खाते से निकाल सकती थी.

गोद ली बेटी का भी खोल सकते हैं खाता (Sukanya Account of adopted Daughter)

नए नियमों के अनुसार अगर किसी ने बेटी गोद ली है तो उस बेटी के लिए भी वो सुकन्या योजना के तहत खाता खुलवा सकता है. सरकार द्वारा इस नियम को अभी जोड़ा गया है.

समय-समय में तय होगी ब्याज दर (Rate of Interest)

पुराने नियमों के अनुसार ब्याज दर को वार्षिक आधार पर तय किया जाता था. वहीं अब सरकार ने इस नियम में बदलाव कर दिया है. यानी अब सरकार समय-समय पर ब्याज दर में संशोधन कर सकती है.

ऑनलाइन बैंकिंग की सुविधा (Online Payment Mode)

जहां पहले इस खाते में केवल नकद राशि, चेक और डीडी द्वारा ही आप पैसे जमा करवा सकते थे. उस नियम में अब ‘ऑनलाइन भुगतान’ की सुविधा भी जोड़ दी गई है. यानी आप ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए भी इस खाते में पैसे जमा करवा सकते हैं.

मिल सकती ही डुप्लिकेट पासबुक  (Duplicate Passbook facility)

इस खाते से जुड़ी पासबुक अगर किसी से खो जाती है तो वो व्यक्ति 50 रुपए का शुल्क भरकर नई पासबुक बैंक से ले सकता है. बस उस व्यक्ति को एक लिखित अनुरोध बैंक में जमा करवाना होगा. इस नियम को अभी जोड़ा गया है.

केवल दो लड़कियों का खोल सकेंगे खाता

एक परिवार केवल अपनी दो बेटियों का ही ये अकांउट खुलवा सकता है. वहीं पहले से एक बेटी होने के बाद में अगर आपको जुड़वां बेटी होती हैं, तो इस स्थित में आपको बैंक में जुड़वां बच्चे होने का प्रमाण देना होगा. जिसके बाद दोनों जुड़वा बच्चों का खाता खोल लिया जाएगा. वहीं अगर आप अपनी बेटी की शादी 18 साल की होने पर करवा देते हैं तो ये खाता समाप्त हो जाएगा. यानी आप फिर इस योजना का लाभ नहीं उठा सकेंगे.

ट्रांसफर  करनी की होगी सुविधा (Transfer of Account)

किसी कारण अगर आप किसी शहर को छोड़ कर किसी अन्य शहर या राज्य में चले जाते हैं. तो ऐसी सूरत में आपका खाता उस शहर में ट्रांसफर कर दिया जाएगा.

खाते से जुड़े नियम (Account Default Rules)

  • यदि आप किसी साल नियमित रुप से इस खाते में राशि जमा नहीं करवाते हैं. तो आपको पचास रुपए का दंड भरना होगा. वहीं अगर आप इस खाते को खोलने के बाद नियमित रुप से पन्द्रह वर्षों तक इसमें पैसे जमा नहीं करवाते हैं, तो इस खाते में जमा संपूर्ण राशि पर डाकघर द्वारा दिया जाने वाला ब्याज लगाया जाएगा.
  • अगर बच्ची के माता-पिता या गार्जियन की मौत होने के कारण अगर इस खाते में कुछ समय तक पैसे जमा नहीं होते हैं, तो खाताधारक को इस योजना के तहत दिया जाने वाला ब्याज ही दिया जाएगा.
  • इस खाते में जमा की जाने वाली ज्यादा से ज्यादा राशि प्रति वित्तीय साल में 1.5 लाख की ही है. वहीं अगर गलती से किसी साल अगर इस खाते में 1.5 हजार से अधिक की राशि जमा हो जाती है. तो उस मामले में अतिरिक्त राशि पर ब्याज नहीं मिलेगा और जमाकर्ता किसी भी समय अतिरिक्त राशि को वापस निकाल सकता है.
  • बेटी की पढ़ाई के दौरान अगर पैसे की जरूरत पड़ती है, तो आप इस खाते से अधिकतम 50 फीसदी पैसे निकाल सकते हैं. लेकिन याद रहे की आपकी बेटी की आयु 18 वर्ष की होनी चाहिए और उसने 10 वीं कक्षा तक पढ़ाई की हो. तभी आप ये पैसे निकाल सकते हैं.
  • नए नियम के मुताबिक आप किसी भी चिकित्सा आपातकाल के मामले में इस खाते से पैसे निकाल सकते हैं. गौरतलब है कि इस नियम को पहले इस योजना में नहीं जोड़ गया था.

कैसे खुलवाएं खाता (how to open sukanya samriddhi yojana account in hindi) 

आप किसी भी डाक विभाग या फिर इस योजना से जुड़े बैंक में जाकर ये अकांउट खुलवा सकते हैं. बस आपको एक फॉर्म भरना होगा और फॉर्म के साथ मांगे गए जरूरी दस्तावेजों को उसके साथ लगाना होगा. जिसके बाद आपकी बेटी का खाता खुल जाएगा. वहीं इस योजना से देश के लगभग सभी बड़े बैंको को जोड़ दिया गया है. इसलिए आप किसी भी बैंक में जाकर ये अकांउट खुलवा सकते हैं. मगर याद रखें की ये खाता आपकी बेटी के नाम से ही खोला जाएगा.

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents required to open a Sukanya Samriddhi Account in hindi )

आपको फॉर्म के साथ अपनी उस बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र लगाना होगा, जिसका खाता आप इस योजना के तहत खुलवाना चाहते हैं. जन्म प्रमाण पत्र की मदद से आपकी बच्ची की सही आयु का पता लग सकेगा. वहीं बच्ची के अभिभावकों का पहचान प्रमाण पत्र, यानी, पैन आधार कार्ड भी फॉर्म के साथ मांगा गया है.

कौन खुलवा सकते हैं ये खाता (information related to Sukanya Samriddhi Account in hindi)

इस खाते को केवल भारत के स्थानीय निवासी ही खुलवा सकते हैं. वहीं अगर आप भारत के निवासी तो हैं मगर किसी और देश में रहते हैं. तो आप इस योजना का फायदा नहीं उठा सकते हैं. वहीं अगर आप इस खाते को खुलवाने के बाद दूसरे देश में जाकर बस जाते हैं, तो उस सूरत में आपका खाता बंद कर दिया जाएगा और उसमें कोई भी ब्याज नहीं दिया जाएगा.

कैसे होगा ये खाता बंद ( how to close Sukanya Samriddhi Account in hindi)

लड़की के 18 वर्ष का होने के बाद इस खाते को बंद करवाया जा सकता है. इस खाते को बंद करवाने के लिए आपको अपनी बेटी का आयु प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा. प्रमाण पत्र में लड़की की आयु 18 वर्ष से कम की नहीं होनी चाहिए है.

Other Articles